आखिर क्यों हुई उत्तर प्रदेश बार काउंसिल अध्यक्ष दरवेश यादव की हत्या


आखिर क्यों प्रदेश अध्यक्ष को साथी अधिवक्ता ने मारी गोली आगरा। दीवानी में बुधवार को उत्तर प्रदेश बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की थाना न्यू आगरा इलाके के न्यायालय परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गयी है। हत्या उनके साथी अधिवक्ता ने ही की है, उसके बाद उसने खुद को भी गोली मार ली है। एडीजी, एसपी सिटी सहित पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच चुकी है। दीवानी मैं वारदात को लेकर तरह तरह की चर्चा हो रही हैं। आपको बता दें कि दरवेश यादव दो दिन पहले ही उत्तर प्रदेश बार काउंसिल की अध्यक्ष बनी थी। बुधवार को दीवानी कचहरी स्थित अधिवक्ता अरविन्द मिश्रा के ऑफिस में स्वागत समारोह चल रहा था। इसी दौरान दरवेश के ही साथ रहने वाले अधिवक्ता मनीष शर्मा ने उनको तीन गोली मारने के बाद खुद को भी गोली मार ली है। दरवेश की निजी अस्पताल में हुई मौत जबकि मनीष का निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। सुचना मिलते ही एडीजी अजय आनंद, एसपी सिटी प्रशांत वर्मा, इंस्पेक्टर अजय कौशल सहित पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गये। है। एडीजी ने बताया साथी अधिवक्ता मनीष ने गोली क्यों मारी इसकी पड़ताल चल रही है। दीवानी में हो रही चर्चा आगरा। दरवेश मूल रूप से एटा निवासी थीं। उनके पिता रिटायर पुलिस अधिकारी थे। वह दो बहिनों में सबसे बड़ी थीं। छोटी बहिन पुलिस में बताई जा रही हैं। वह पिछले कई साल से खंदारी मैं रह रही थीं। 2004 मैं वकालत शुरू की थी। आगरा कालेज से एलएलएम की पढ़ाई की थी। आरोपी साथी मनीष शर्मा शादी शुदा है। उसका अपनी पत्नी से विवाद चल रहा है। अधिवक्ताओं ने बताया दोनों घनिष्ठ मित्र थे। एक ही चेंबर मैं वकालत करते थे। लाइसेंसी पिस्टल से मारी गोली स्वागत समारोह मैं मृतका के साथ मनीष नहीं था। यह बात लोगों के गले नहीं उतर रही थी। क्योंकि छोटे से छोटे काम मैं मनीष साथ रहता। जबकि इस बार दरवेश प्रदेश की अध्यक्ष बनी थीं। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक मनीष अचानक आया और पिस्टल से ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। एक गोली सर मैं 3 पेट मैं लगीं। वहां मौजूद लोग कुछ समझते उससे पहले मनीष ने खुद को भी गोली मार ली। मनीष ने ऐसा क्यों किया यह सवाल अभी पहेली बना हुआ हैं। वह कई दिनों से परेशान चल रहा था। मनीष ने घटना को अंजाम अपनी पिस्टल से दिया है। जिसे वह हमेशा अपने पास रखता था। एसपी सिटी ने बताया पिस्टल लाइसेंसी है। घटना के पीछे क्या वजह है। अभी कोई सुराग नहीं मिल रहे हैं। अब तो मनीष के होश आने पर ही कुछ कहा जा सकता है। मामले मैं समाचार लिखे जाने तक कोई तहरीर नहीं मिली है

More Videos