किसकी लगी है कान्हा की नगरी को नजर, न अपराधी नियंत्रण में न अधिकारी

-जनता को धमका रहे अधिकारी, दे रहे जेल भेजने की धमकी
-सरकारी कार्यालयों में भी है खौफ का माहौल, भ्रष्टाचार से जनता बेहाल


मथुरा। कान्हा की नगरी को किसकी नजर लगी है। न अपराधी नियंत्रण में हैं, न अधिकारी नियंत्रित हैं। अधिकारी जनता को धमका रहे हैं। जेल भेजने की धमकी दे रहे हैं, दूसरी ओर सरकारी कार्यालयों में भी खौफ का माहौल है, भ्रष्टाचार से आम आदमी बेहाल है। सरकारी सिस्टम की मनमानी की परतें एक के बाद एक उधड रही हैं। अपराधी बेखौफ हैं और एक के बाद एक सनसनी खेज वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। चिकित्सक अपहरण कांड के खुलासे ने तो रहीसही कसर ही पूरी कर दी है। जेई हत्याकांड का असर विद्युत विभाग के कार्यालयों में साफ देखा जा सकता है। विद्युत विभाग के जेई की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। रात को दस बजे तक खुलने वाले विभाग के कार्यालयों पर अब शाम पांच बजे ही ताले लटक जाते हैं। कर्मचारी बिना सुरक्षा के फील्ड में जाने को तैयार नहीं हैं। आये दिन विद्युत विभाग की टीमों के साथ मारपीट हो रही है कर्मचारी खौफजदा हैं, तो आम आमदी विभाग की मनमानी से धैर्य खो रहा है। पुलिस भी इससे अछूती नहीं है। कोसी क्षेत्र में हथियार तस्करों की टोह लेने गये एसओ को गोली मार दी गई थी जबकि इसी घटना में एक ग्रामीण की भी मौत हुई थी। थाना हाइवे क्षेत्र में तारसी चैराहे पर गांजा तस्कर को पकडे गये दो एसआई के साथ करीब दो दर्जन लोगों ने मारपीट कर दी। इस मामले में सात नामजदों सहित करीब बीस अज्ञात लोगों के खिलाफ पिटे एसआई ने थाना हाईवे में रिपोर्ट दर्ज कराई है। जबकि इन दोनों मामलों में पुलिस पर भी उंगली उठी। हथियार तस्कारों से भिडने के लिए एसओ अकेले क्यों गये थे। जबकि तारसी चैराहे की घटना में भी पुलिस आरोपी के घर में रात में तोडफोड की और खुला तांडव मचाया।
यहां लोगों का अरोप है कि दोनों उपनिरीक्षक उगाही के लिए आये थे।  हड्डी रोग विशेषज्ञ डा.निर्विकल्प अग्रवाल अपहरण कांड के बाद तो भूचाल से आ गया है। एसओ से लेकर एसएसपी तक घेरे में हैं। आईजी आगरा मामले में अपनी रिपोर्ट दे चुके हैं। एसओ, सीओ पर कार्यवाही हो चुकी है, सूत्रों का कहना है कि जल्द ही एसएसपी पर कार्यवाही होने जा रही है। आईजी ने एसएसपी से भी स्पष्टीकरण मांगा था।


ये हैं कान्हा की नगरी के सूरते हाल
-पुलिस की सागिर्दी, नगर निगम के संरक्षण में सडक पर खुली गुण्डई, शातिर हिस्ट्रीशीटरों की निगरानी में हो रही वसूली
-हत्या कर कान्हा की नगरी में लगातार फैंके जा रहे शव, लावारिस शव मिलने का सिलसिला जारी
-धर्म नगरी को मिल रही देह व्यापार की मंडी के रूप में पहचान
-रात 10 बजे तक खुलने वाले विद्युत कार्यालयों पर पांच बजे पड जाते हंै ताले खौफजदा हैं कर्मचारी
-रविवार को भी खुलते थे विद्युत विभाग के काउंटर, अब बंद रहते हैं
-गुरूवार को हुआ एआरटीओ बबिता वर्मा की गाडी पर हमला
-मादक पदार्थों की बडी मंडी बन मथुरा जनपद
-यमुना एक्सप्रेस वे पर भी होने लगीं रोड होल्डअप की घटनाएं
-जमीन कब्जाने को आपस में भिड रहे भाजपा के पूर्व विधायक, वार्षद
-एंटी भू माफिया स्क्वायड की अब तक की कार्यवाही पर भी उठ रहे हैं सवाल
-नगर निगम की जमीनों पर हो रहे धडाधड कब्जे
-एमवीडीए अवैध निर्माणों पर नहीं कर पा रहा है कार्यवाही, बदसूरत हुई शहर की सूरत

काम से काम नहीं, बाकी सब काम करेंगे
-डंपिंग ग्राउंड पर पालीथिन से फ्यूल बनाने का प्लांट नहीं हुआ चालू, करोडों में उठा था टैण्डर जिम्मेदारों ने साधी चुप्पी
-डंपिंग ग्राउंड पर हजारों टन कूडा जला कर किया जा रहा निस्तारित, पराली जलाने वाले किसानों पर धडाधड कार्यवाही
-अवैधरूप से रह रहे विदेशी नागरिकों ने हासिल कर लिये, पेन, आधार, ड्राइविंग लाइसेंस जैसे दस्तावेज, कार्यवाही किसी पर नहीं
-बोर्ड परीक्षा से ठीक पहले डीआईओएस निलंबित
-एनजीटी के मामले में लगातार तलब हो रहे अधिकारी
-खाद्य विभाग की मनमानी से जहर खा रहे, जहर पी रहे लोग