हाईकोर्ट बैंच की मांग को लेकर राष्ट्रपति के नाम डीएम को दिया ज्ञापन

 


जिलाधिकारी कार्यालय पर एकत्रित हुए अधिवक्ता।
 

मथुरा। बार एसोसिएशन मथुरा के नेतृत्व में खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के सदस्यों ने सक्रिय रुप से ब्रजमंडल में हाईकोर्टबैंच स्थापना की मांग की। अधिवक्ताओं ने पचासों सालों से चली आ रही पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनता की सस्ते व सुलभ न्याय प्राप्त करने के लिए हाईकोर्टबैंच की मांग को सरकार से जल्द पूरा करने की मांग की है। बार एसोसिएशन मथुरा के अध्यक्ष अवधेश सिंह चैहान एवं सचिव विशाल सिंह ने राष्ट्रपति के नाम जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में मांग की गई है पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनसंख्या आठ करोड़ के करीब है, इतनी जनसंख्या पर हाईकोर्टबैंच न्याय प्रशासन के लिए अत्यंत आवश्यक है, आज के गूगल, व्हाट्सएप, 5जी के जमाने में न्याय प्रशासन अभी तक 2जी से भी कम लेवल का है, पूर्व उपाध्यक्ष बार एसोसिएशन वरिष्ठ अधिवक्ता ठा. मदन गोपाल सिंह एडवोकेट ने बताया कि मात्र तुच्छ राजनीति ही हाईकोर्टबैंच की राह में रोड़ा है, क्षेत्र की जनता को आज तक हाईकोर्टबैंच नहीं मिल पाई है, न्याय नहीं मिल पाया है तो इसके लिए पिछले पचासों सालों में जिस भी दल की सरकारें आईं, ईमानदारी से तो सभी दोषी हैं, सभी राजनीतिक दल दोषी हैं। अधिवक्ता सत्येन्द्र सिंह परिहार ने कहा कि यदि सरकारें वास्तविक तौर पर जनता की पहुंच न्याय तक आसान बनाना चाहतीं हैं तो सर्वप्रथम हाईकोर्टबैंच स्थापना ब्रजमंडल में तुरंत आवश्यक है।

पूर्व सचिव बार एसोसिएशन राजेन्द्र प्रसाद शर्मा ने चेतावनी देते हुए कहाकि सरकारें अधिवक्ताओं और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनता का इम्तिहान न लें, क्षेत्र की जनता की हाईकोर्टबैंच की मांग को यथाशीघ्र पूरा करें। खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के सहसंयोजक नीरज राठौड़ एडवोकेट व अरविन्द कुमार एडवोकेट ने कहाकि अंग्रेजों के समय पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनता के साथ जो अन्याय आगरा से इलाहाबाद हाईकोर्ट स्थानांतरित करके अंग्रेजों ने किया था, वो अन्याय बदस्तूर आज भी जारी है, और बड़े ही दुःख की बात है। खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के दिवाकर शर्मा एडवोकेट, सोम तिवारी एडवोकेट आदि ने भी अपनी बात रखी है।