फास्टैग बनवाने के नाम पर अवैध वसूली कर रहे टोल कर्मी

-ट्रांसपोर्ट कारोबारियों ने की शिकायत

मथुरा। आगरा-दिल्ली हाईवे स्थित महुअन टोल पर फास्टैग बनवाने के लिए अवैध वसूली की शिकायत आई है। ट्रांसपोर्टर्स का कहना है कि महुअन टोल पर शुक्रवार को एक ट्रक चालक से 800 रुपये फास्टैग बनवाने के वसूले गए। इसी तरह की शिकायतें शहर के कई ट्रांसपोर्ट कारोबारियों ने की हैं। टोल प्लाजा पर फास्टैग का स्टॉक नहीं होने का बहाना भी बनाया जा रहा है।
राष्ट्रीय राजमार्गों के टोल प्लाजा पर फास्टैग को लागू करने की तिथि 15 दिसंबर कर दी गई। इसके पहले टोल प्लाजा पर व्यावसायिक वाहनों के चालक फास्टैग बनवाने को पहुंच रहे हैं।
आगरा गुड्स कैरियर की बैठक में टोल प्लाजा पर फास्टैग के नाम पर वसूली का आरोप लगाया गया। अध्यक्ष दीपक शर्मा ने बताया कि एक ट्रक शुक्रवार को आगरा से दिल्ली जा रहा था, महुअन टोल पर उसने कैंप में फास्टैग बनवाने को कहा तो स्टाक नहीं होने का हवाला दिया। काफी प्रयास करने के बाद 200 रुपये के रिचार्ज के साथ एक हजार रुपये का फास्टैग लगाया। ट्रांसपोर्ट कारोबारी हिमांशु मिश्रा, शिव सिंह चैधरी ने बताया कि पलवल टोल पर भी ट्रक वालों को फास्टैग नहीं दिया जा रहा है। वह स्टाक खत्म होने की बात कह रहे हैं, जबकि एनएचएआई के अधिकारी सब कुछ अच्छा ही बता रहे हैं। कच्चा माल लेकर जाने वाले वाहन चालक टोल प्लाजा पर ज्यादा इंतजार भी नहीं कर सकते हैं