ट्यूशनखोर सरकारी शिक्षकों का छात्रों पर रौंब


शाहरुख़ खान 

- फेल करने की देते है धमकी
- सरकार के नियमों की अनदेखी
अग्र भारत संवाददाता
आगरा।
कस्बा बरहन क्षेत्र में ट्यूशनखोर सरकारी शिक्षकों ने स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को अपने हाथ की कठपुतली बना लिया है। ट्यूशनखोर शिक्षक छात्रों को उनपर ट्यूशन न पढ़ने पर प्रैक्टिकल में कम नम्बर देने की धमकी देकर अपने पास ट्यूशन पढ़ने बुलाते है। मजबूर छात्रों को फैल होने के डर से उनपर ही पढ़ना पड़ता है।     
गौरतलब है कि बरहन स्थित राष्ट्रीय इंटर कॉलेज में तैनात सरकारी शिक्षकों की मनमानी के चलते छात्र छात्राओं को अपने भविष्य की चिंता सता रही है। कॉलेज में तैनात शिक्षक सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे है। और स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों पर दबाव बना कर अपनी ट्यूशनखोरी की दुकान चला रहे है। जबकि सरकार शिक्षकों पर छात्रों की पढ़ाई के लिए मोटा पैसा खर्च करती है। छात्रों का कहना है कि शिक्षक पहले तो छात्रों को ट्यूशन पढने के लिए कन्वेंश करते है लेकिन गरीब मजदूर परिवार को छात्र ट्यूशन आने से मना करते है तो ट्यूशनखोर शिक्षक छात्रों को प्रैक्टिकल में नम्बर कम देकर फैल कराने की धमकी देते है। फैल होने के डर से मजबूरी में छात्रों को स्कूल के ही शिक्षकों पर ट्यूशन लगाना पड़ता है। छात्रों ने बताया कि शिक्षक एक घण्टे के बैच में करीब सौ बच्चों को एक साथ पढ़ते है और मोटी कमाई करते है। 
हालहि मे कुछ दिनो पहले ट्यूशनखोरी को लेकर कॉलेज में तैनात शिक्षकों के बीच आपस मे विवाद भी हुआ था। जिसमे कॉलेज में पड़ने वाले छात्र छात्राओं के साथ शिक्षा मे लापरवाही करने और छात्रों का उत्पीड़न करने की शिकायत को लेकर छात्रों के परिजने स्कूल परिसर में पहुंच गये थे। मामले की जानकारी होने पर डीआईओएस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे थे। जिसमें डीआईओएस ने मामले में छात्रों से जानकारी प्राप्त की तो पुरा मामला ट्यूशनखोरी का सामने आया था। मामले की जानकारी होने पर डीआईओएस अधिकारी ने आरोपी शिक्षकों पर फटकार लगाई और प्रधानाचार्य को कार्यवाही करने के निर्देश दिये। 
ट्यूशनखोर शिक्षक को शिक्षा विभाग के अधिकारियों में पकड़ इतनी मजबूत बना रखी है कि इनपर कोई कार्यवाही नही होती है।