यूपी बार काउंसिल अध्यक्ष दरवेश यादव का उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार

सीएम ने दिए जांच के निर्देश 
मुख्यमंत्री ने आगरा के जिलाधिकारी को तत्काल घटना के कारणों की जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को प्रभावी विवेचना सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बार काउंसिल, बार असोसिएशन और न्यायपालिका के साथ राज्य सरकार, हाई कोर्ट परिसर और जिला न्यायालयों के परिसर में समुचित सुरक्षा प्रदान करने के लिए सरकार पूरी तरह प्रतिबद्ध है। 

उन्होंने कहा, 'इस संबंध में मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं। अदालत परिसर में हत्या होना दुखद घटना है। इन सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर सुरक्षा के सभी मानकों को अपनाते हुए राज्य सरकार आवश्यक कदम उठाएगी।' 

बार काउंसिल की पहली महिला प्रमुख थीं दरवेश 
दरवेश यादव बार काउंसिल की पहली महिला प्रमुख थीं, जिनकी बुधवार को एक वकील के चैंबर में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वकील मनीष शर्मा ने बुधवार को दरवेश यादव पर गोलियां चलाईं, उसने बाद में खुद को सिर में गोली मार ली और उसे गंभीर हालत में गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दरवेश के भतीजे सनी यादव ने मनीष शर्मा, उसकी पत्नी वंदना और एक अन्य वकील विनीत गुलेचा को आरोपी के रूप में नामजद किया है। 

इस बीच वकीलों ने दिवंगत बार काउंसिल प्रमुख के परिवार के लिए सुरक्षा की मांग की है, जबकि बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने परिवार के लिए 50 लाख रुपये का मुआवजा मांगा है। दरवेश यादव को रविवार को उत्तर प्रदेश बार काउंसिल के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था और बुधवार को अदालत में वह अपने सम्मान समारोह में शामिल हुई थीं।