महिला के डेढ़ लाख के जेवर लेकर भागे बदमाश

झांसी। नवाबाद थाना क्षेत्र में एक महिला को दो युवकों ने बीच चैराहे पर रोक लिया और खुद को पुलिस वाले बताया। इसके बाद बदमाशों से एहित्यात बरतने की बात कहकर उसके जेवरात उतरवा लिए और महिला को गुमराह कर उसके डेढ़ लाख के जेवर लेकर भाग गये। पीड़िता ने इसकी शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने चैराहे के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाल कर बदमाशों की तलाश शुरू कर दी।
चित्रा चैराहे के पास रहने वाली रेखा मेहता शुक्रवार की सुबह इलाहाबाद बैंक चैराहे के पास से पैदल जा रही थी। तभी चैराहे के पास दो युवकों ने उसे रोक लिया और सादा लिवास पहने हुए युवकों ने अपने आप को पुलिस वाला बताते हुए कहा कि वह बदमाशों की तलाश कर रहे है। ऐसे में महिला को एहित्यात बरतते हुए जेवरात उतारने को कहा। इस पर रेखा ने गले की चेन, अंगूठी, कान के झुमके सहित करीब डेढ़ लाख कीमत के जेवरात उतार लिए। इसके बाद दोनों युवको ने अपनी कला कारी दिखाते हुए रेखा के जेवर लेकर भाग गए। जब रेखा को अहसास हुआ कि वह बदमाशों के चंगुल में फस कर अपने जेवर गवां चुकी है तो उसने इसकी सूचना सबसे पहले अपने पति बैंक कर्मी भारत भूषण मेहता को दी। इसके बाद पीड़िता परिजनों के साथ थाने पहुंची और घटना की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने घटना स्थल के आस-पास लगे सीसी टीवी फुटेज खंगाल कर बदमाशों की तलाश करने में जूट गई। पीड़ित परिवार की माने तो रेखा ने जब दो आरोपियों की बात को अनदेखा किया तो तीसरा युवक आया और कहा कि ये पुलिस वाले ही है और सच कह रहे है। इस पर रेखा को भरोसा हो गया और देखते ही देखते ही अखबार के कागज में जेवरात लपेटते वक्त बदमाशों ने अपनी कलाकारी दिखाते हुए जेवर लेकर भाग गए। पुलिस का मानना है कि यह तीसरा व्यक्ति भी बदमाशों का साथी होगा जो महिला को विश्वास दिलाने के लिए वहां पहुंचा।