दुनिया का सबसे बड़ी आबादी वाले भारत में खतरे में है लोकतंत्र

किसान आंदोलन के समर्थन में अमेरिकी उपराष्ट्रपति की भतीजी मीना हैरिस


वाशिंगटन। एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग और अमेरिकी पॉप सिंगर रिहाना के बाद अब अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की भतीजी ने भी कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों को अपना समर्थन दिया है। कमला हैरिस की भतीजी मीना हैरिस ने बुधवार को ट्वीट में किसानों को समर्थन देते हुए कहा कि दुनिया का सबसे बड़ी आबादी वाला लोकतंत्र खतरे में है। 
मीना हैरिस पेशे से वकील हैं और उन्होंने एक किताब भी लिखी है। मीना हैरिस ने कैपिटल हिल में हुई हिंसा और भारत में हो रहे किसान आंदोलन को जोड़ते हुए कई ट्वीट किए। भारत में किसान आंदोलन की एक तस्वीर को ट्वीट करते हुए मीना हैरिस ने लिखा, ये महज एक संयोग नहीं है कि दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र (अमेरिका) पर एक महीने पहले ही हमला हुआ और अब दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र पर खतरा है। ये दोनों घटनाएं जुड़ी हुई हैं। हमें भारत में आंदोलनरत किसानों के खिलाफ सुरक्षा बलों की हिंसा और इंटरनेट बंद किए जाने को लेकर आक्रोशित होना चाहिए।
मीना हैरिस ने लिखा, किसानों को लेकर हमें उसी तरह से प्रतिक्रिया देनी चाहिए जिस तरह से हमने कैपिटल हिल में हुई हिंसा को लेकर दी है क्योंकि किसी भी जगह पर फासीवाद हर जगह के लोकतंत्र के लिए खतरा है। मीना हैरिस ने लिखा, "उग्र राष्ट्रवाद अमेरिकी राजनीति, भारत या किसी दूसरी जगह पर उतनी ही बड़ी ताकत है। इसे तभी रोका जा सकता है जब लोग इस हकीकत को महसूस कर सकें कि फासीवाद तानाशाह कहीं नहीं जाने वाला है, जब तक कि हम संगठित नहीं होंगे और कैपिटल हिल जैसी घटनाओं के कोई नतीजे नहीं होंगे। मानी हैरिस ने लिखा, "सच्चाई के साथ ही एकता का जन्म होता है। जवाबदेही तय किए बिना जख्मों को भरना नामुमकिन है। आवाज उठाइए और कम पर समझौता ना करिए।