ऑक्सीजन के अभाव में छात्रा की मौत।

1 घंटे बाद भी नहीं पहुंची एंबुलेंस।
ऑक्सीजन मिलती तो बच सकती थी छात्रा की जान ?

आगरा (पिनाहट)। कस्बा क्षेत्र में रविवार को एक छात्रा ने ऑक्सीजन के अभाव में दम तोड़ दिया। 1 घंटे तक पिनाहट के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर तड़पती रही। जानकारी के मुताबिक  उटसाना  निवासी मान सिंह की 12 वर्षीय पुत्री ज्योति जो करीब 10  दिन पहले बाइक से गिरकर गले में चोट लग गई थी जिसका आगरा इलाज चल रहा था। आज ज्योति अपने पिता मान सिंह के साथ आगरा से अपने घर जा रही थी रास्ते में ज्योति के पिता मानसिंह ने जब मेडिकल से दो दवा खरीद रहे थे तभी अचानक उसे चक्कर आने लगे और पिनाहट कस्बे में गिर पड़ी। काफी देर बाद एंबुलेंस का नंबर मिलाने के बाद भी एंबुलेंस नहीं पहुंची जिस पर थाना पुलिस की मदद से ज्योति को सरकारी हॉस्पिटल ले जाया गया वहां भी ऑक्सीजन नहीं थी। जब ज्योति हॉस्पिटल पहुंची तो उसकी सांसे चल रही थी अगर समय पर ऑक्सीजन मिल जाती तो ज्योति की जान बच सकती थी।

हॉस्पिटल में सिलेंडर तो था लेकिन उसमें ऑक्सीजन नहीं थी, ज्योति ने हॉस्पिटल में ही दम तोड़ दिया और मृत ज्योति को मोटरसाइकिल पर बैठाकर उसके पिता उसे अपने घर ले गए। सवाल यह खड़ा होता है कि देश भर में इस वक्त कोरोना वाइरस को लेकर जबरदस्त संकट मंडरा रहा है ऐसे में हॉस्पिटलों की तैयारी किस लेवल की है, अगर कोई मरीज पॉजिटिव पाया जाता है तो उसे ऑक्सीजन देना भी मुश्किल हो जाएगा।