इस ’नेता पति’ को चाहिए आधुनिक बीबी, थाने तक पहुंचा मामला

राया ब्लाक प्रमुख की पहली पत्नी ने दर्ज कराया मुकदमा
-2015 में भी पहली पत्नी ने थाना राया में दर्ज कराया था मुकदमा, सामाजिक दबाव में झुक गया था प्रेमपाल
-वर्तमान में दूसरी पत्नी के साथ मथुरा की एक पाॅश कालोनी में रह रहे माननीय

मथुरा। राया ब्लाक प्रमुख प्रेमपाल अपनी पहली पत्नी सुमन से तलाक चाहते हैं। माननीय तलाक चाहते हैं यह पारविरिक मासला हो सकता है लेकिन उनकी पत्नी ने इसके पीछे के जिन कारणों का खुलासा किया है वह बेहद चैंकाने वाला और पीडा दायक भी है। मामला एक बार फिर थाने तक पहुंच गया है। इससे पहले 2015 में भी पहली पत्नी से रिपोर्ट दर्ज कराई थी। कानून के भय और समाज के दबाव के आगे प्रेमपाल उस समय झुक गये थे और सुमन को अपने साथ रखने की हामी भर दी थी। तभी से सुमन प्रेमपाल के गांव यानी अपनी ससुराल में अपनी दस साल की बेटी के साथ रह रही है। जबकि प्रेमपाल जो उस समय ब्लाक प्रमुख नहीं थी अपनी दूसरी पत्नी के साथ मथुरा की एक पाॅश कालोनी में रह रहे हैं। राया ब्लाक के गांव सुथरिया निवासी प्रेमपाल की शादी 2004 में राया के ही गांव मंजली गढी निवासी सुमन के साथ हुई थी। प्रेमपाल और समुन एक दस साल की बेटी भी है। थाना राया में दर्ज कराई रिपोर्ट में सुमन ने आरोप लगाया है कि जिस साल उसकी शादी हुई उसी समय से उसके पिता लापता हैं। उसकी मदद करने वाला कोई नहीं है। आर्थिक रूप से उसके मायके पक्ष के लोग कमजोर हैं। जिस समय उसकी शादी हुई थी प्रेमपाल की स्थिति भी खास नहीं थी। प्रेमपाल गांव में ही खेतीबाडी करता था। शादी के कुछ दिन बाद वह दिल्ली चली गया और वहां प्रापर्टी डीलिंग का काम करने लगा। इस बीच प्रेमपाल ने कुछ पैसा कमा लिया और प्रापर्टीडीलिंग के साथ नेतागीरी भी करने लगा। यहीं से प्रेमपाल को आधुनिक पत्नी की जरूरत महसूस होने लगी। दर्ज रिपोर्ट में सुमान ने आरोप लगाया है कि प्रेमपाल बार बार उसे प्रताडित करता और छोड कर अपने मायके चले जाने की कहता, लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं हुई।
सुमन के मुताबिक इस बीच प्रेमपाल ने दूसरी शादी रचा ली। बात बिगडती चली गई और नौबत यहां तक आ गई कि 20 अगस्त 2015 को सुमन ने थाना राया में रिपोर्ट दर्ज कराई। कुछ कानून का भय और कुछ समाज का दबाव प्रेमपाल ने अनमने ढंग से ही सही सुमन के साथ रहने की हामी भर दी। सुमन भी यही चाहती थी कि घर न टूटे, बेटी पर भी इस विवाद का असर पड रहा था। हालांकि इसके बाद भी सुमन की मुश्किलें कम नहीं हुईं और प्रेमपाल अपने रास्ते पर आगे बढता चला गया। सुमन की अहमियत प्रेमपाल की जिंगदी में कम होती गई और उसकी जगह कोई और लेने लगा। सुमन गांव सुथरिया में ही अपनी बेटी के साथ रहने लगी। प्रेमपाल गांव में नहीं रहता, इस बीच मां बेटी के खानपान और दूसरी जरूरतें पूरा करना भी प्रेमपाल ने बंद कर दिया। दर्ज रिपोर्ट में सुमन ने आरोप लगाया है कि प्रेमपाल लगातार उसके उपर दबाव बना रहा है कि वह तलाक लेकर चली जाए। 14 फरवरी की रात को प्रेमपाल ने मारपीट कर उसे घर से निकाल दिया और तलाक नहीं देने की स्थिति में जान से मारने की धमकी भी दी। इस घटना में पति प्रेमपाल, ससुर मोहन सिंह के अलावा भावना, हरदेव, अवधेश और विमलेश के खिलाफ नामदज रिपोर्ट दर्ज कराई है।


पुलिस पर लगाया दबाव में काम नहीं करने का आरोप
थाना राया में दर्ज रिपोर्ट में सुमन ने पुलिस पर भी आरोप लगाये हैं। दर्ज रिपोर्ट में सुमन ने आरोप लगाया है कि 14 फरवरी को जो घटना हुई इसकी सूचना पुलिस को दी गई लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की। थाना पुलिस पति की राजनीतिक हैसियत के आगे झुक गई थी। इसे बाद वह लगातार पुलिस के आलाधिकारियों के कार्यालयों के चक्कर काटती रही, तब कहीं जाकर उसकी रिपोर्ट दर्ज हो सकी है।