ब्लैकमेलर बनी पुलिस, सेक्स रैकेट से जुड़े होने और होटल में लड़कियां सप्लाई करने का आरोप लगा वसूले दो लाख

आगरा। प्रदेश के मुखिया बेहतर पुलिसिंग का प्रयास कर रहे हैं ताकि  आम जनमानस में पुलिस की छवि बेहतर बने। शिकायतकर्ताओं से अच्छा व्यवहार हो और उनकी समस्याओं का निदान हो सके। पर चंद पुलिस कर्मियों की करतूत से इस मुहीम को पलीता लग रहा है ।

मामला 2 मार्च की रात्रि का बताया गया है।  पुलिस ने शातिर बदमाशों की तर्ज पर होटल में काम करने वाले दो युवकों को उठाया। उन पर होटलों में लड़की सप्लाई करने और देह व्यापार में लिप्त होने के मामले में मुकदमा दर्ज करने का डर दिखाया गया। इन सब से बचने के लिये में 3 लाख की रिश्वत की मांग की गई । पुलिस कर्मियों का ये कृत्य इन दिनों शहर भर में चर्चा का विषय बना हुआ है। मामला जब उच्च अधिकारियों की जानकारी में आया तो इसकी जांच शुरू हो गई है।

ये है पुरा मामला... 
संजय और भूपेंद्र ताजगंज के एक होटल में काम करते हैं। उन्हें 2 मार्च की रात 9:00 बजे के लगभग  पुलिसकर्मियों ने पकड़ा। पुलिसकर्मियों के साथ एक दरोगा भी था। पुलिस ने युवकों पर सेक्स रैकेट से जुड़े होने और लड़कियां सप्लाई करने का आरोप लगाया। दोनों युवक दहशत में आ गए। अपने परिजनों से संपर्क किया।  रात भर सौदेबाजी होती रही।संजय को छोड़ने की एवज में पुलिस ने उसके स्वजनों से 2 लाख वसूल लिए।  पुलिसकर्मियों ने भूपेंद्र से भी इतने ही रुपए की मांग की। पुलिस ने भूपेंद्र को छोड़ने के एवज में स्वजनों से 1.80 लाख की मांग की। इस दौरान पुलिसकर्मियों और भूपेंद्र के परिजनों मांडवली होती रही और सौदा दूसरे दिन 1.10 लाख में सौदा तय हुआ। भूपेंद्र के स्वजनों से 1.10 लाख वसूलने के बाद उसे छोड़ दिया गया। दोनों युवकों की बाइक भी पुलिस ने वापस कर दी।

मामला की शुरू हुई उच्च स्तरीय जांच
पुलिस की ब्लैकमेलिंग और वसूली का यह मामला अधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच शुरू हो गई है। एसपी सिटी रोहन पी बोत्रे का कहना है कि मामला संज्ञान में आया है मामले की जांच की जा रही है। दोषियों को बक्शा नहीं जायेगा।