सेक्स रैकेट: B2B = बॉडी टू बॉडी मसाज, जिस्म फरोशों ने शहरों की लड़कियों को नौकरी के नाम पर धकेला

स्पा का मतलब मिनरल्स से भरपूर पानी में स्नान, स्पा थेरपी यूरोपी से हुई थी शुरू
जिस्म फरोशी तस्करों ने अन्य शहरों की लड़कियों को नौकरी के नाम पर धकेला


आगरा। ताजनगरी में अगर आप नजर दौड़ाएं तो स्पा, जिन्हें मसाज पार्लर भी कहा जाता है, आपको कुकुरमुत्ते की तरह चारों ओर फैले हुए नजर आएंगे। बेहद सामान्य डिस्पले बोर्ड के साथ ये स्पा यानी मसाज पार्लर अंदर से इतने सामान्य नहीं होते, जितने आपको बाहर से नजर आते हैं। स्पा के अंदर की दुनिया इतनी रंगीन होती है कि आप अंदाजा लगाना तो दूर, सोच भी नहीं सकते। बॉडी मसाज देने के नाम पर इन स्पा में जिस्म फरोशी का वो खेल होता है, जिसकी कल्पना करना भी नामुमकिन है। कुछ ऐसे ही स्पा के अंदर की हकीकत का राज जानने के लिए ‘अग्र भारत’ रिपोर्टर ने नकली ग्राहक बनकर मसाज पार्लर में एंट्री की और अंदर के वो राज जाने, जो बाहर से नजर नहीं आते। पढ़िये स्पा सेंटर की आड़ में जिस्म फरोशी का धंधा कैसे फल-फूल रहा है।

ताजनगरी के स्पा सेंटरों का काला सच
फतेहाबाद रोड ताज व्यू चौराहा के पास स्थित एक स्पा में एंट्री करते ही सबसे पहले हमारे रिपोर्टर का सामना रिेसेप्शन पर बैठी एक लड़की से होता है। जो वेलकम करने के साथ ही स्पा के मसाज रेट बताती है। मसाज रेट शुरू में 1500 सौ रुपये से तीन हजार तक मांगे जाते हैं। ईधर-उधर का रिफरेंशन देने पर 1000 रुपये में बात तय हो जाती है। रिपोर्टर एंट्री फीस दी और उसे एक स्टाफ ब्वॉय अपने साथ अंदर बने रूम में ले गया। स्पा का रूम 8 फीट लंबा और करीब 6 फीट चौड़ा केबिन टाइम कमरा था। उसमें एक स्ट्रेचरनुमा टेबिल थी। जिसपर गद्दे और चादर के ऊपर एक सफेद रंग की शीट बिछी हुई थी, ये शीट बिल्कुल वैसी ही थी, जैसा एक सामान्य टिशू पेपर होता है, यानी वन टाइम यूज वाला। रूम के एक कोने में बेहद छोटा सा शीशे की दीवारों वाला बॉथरूम था, जिसमें शावर लगा हुआ था। बेहद डिम लाइट में हमारा रिपोर्टर कुछ और देख पाता, उससे पहले ही एक लड़की ने दरवाजा खटखटाकर एंट्री की। हाथ में आॅयल, क्रीम की ट्रे लिए लड़की ने हाय-हेलो के साथ ही कहा कि सर चेंज कर लीजिए। चेंज करने से मतलब था कि आप अपने सारे कपड़े (अंडर गार्मेंट्स तक) उतारकर एक ऐसा अंडरवियर पहने लें, जो वन टाइम यूज था।

अरे सर मुझसे का क्या शर्माना
रिपोर्टर के मुताबिक जब उसने कहा कि वो उसके सामने कपड़े कैसे उतारे तो उस लड़की ने कहा, 'अरे सर इतना क्यों शर्मा रहे हैं, यहां तक आये हो तो सबकुछ पता करके ही आये होंगे, अच्छा चलिए मैं मुंह उधर कर लेती हूं।  रिपोर्टर ने वो वन टाइम यूज वाला अंडरवियर पहन लिया। स्पा में किस काम के कितने रेट पूछने पर, लड़की 'सर बताइए क्या करवाना चाहेंगे...। रिपोर्टर- मैं तो मसाज कराने ही आया हूं। लड़की- सर वो तो हो जाएगी, उसके अलावा क्या कराएंगे, मतलब कुछ एक्स्ट्रा। रिपोर्टर- एक्स्ट्रा मतलब, मैं तो यार पहली बार आया हूं, आप बताइए ना, देखिए सर अगर फुल सर्विस चाहिए तो 3000 रुपए, बी-टू-बी लेंगे तो 2000 रुपए और अगर सिर्फ हैंड जॉब चाहिए तो 1000 रुपए।

स्पा की आड़ में जिस्मफिरोशी
हर कोड वर्ड का बताया मतलब इस सबका अंदेशा हमारे रिपोर्टर को था, लेकिन वो फिर भी अनजान बना रहा। हमारे रिपोर्टर ने इन सबका मतलब जानना चाहा तो उस लड़की ने कुछ इस तरह बताया। लड़की- सर अगर फुल सर्विस चाहिए, यानी सेक्स, टचिंग वैगरह सब तो 3000, बी-टू-बी यानी बॉडी टू बॉडी तो मतलब मैं न्यूड होकर आपको मसाज दूंगी, आप कहीं भी केवल टच कर सकते हैं और अगर हैंड जॉब चाहिए तो केवल मास्टरबेट। इसके बाद हमारा रिपोर्टर फोन आने का बहाना कर स्पा से बाहर निकल आया।
नाले पर स्थित स्पा का सच
हमारा रिपोर्टर फतेहाबाद रोड से शहीद नगर को जाने वाले नाले पर स्थित एक स्पा सेंटर पर गया। वहां कर्मचारी ने एक हजार रुपए मसाज के चार्ज बताए और अंदर भेज दिया। कमरे में युवती आती है और डेढ़ हजार रुपए शॉर्ट (सेक्स करना) के लगेंगे। स्पा पर सेक्स के लिए शॉर्ट शब्द का इस्तेमाल करते हैं। ताज व्यू चौराहे पर भी एक दर्जन स्पा हैं। वहां का भी कुछ ऐसा ही हाल है। एक स्पा सेंटर में कर्मचारी ने पहले तो जिस्मफरोशी के लिए मना कर दिया। इसके बाद वापस लौटते ही कर्मचारी ने बुलाकर मैनेजर से मिलवाया। मैनेजर ने बताया कि दो हजार रुपए का एक शॉर्ट होगा।

चौकी के पास हैं कई स्पा
ताजगंज के बसई चौकी के पास बेसमेंट में स्पा सेंटर चलता है। वहां महिला कर्मचारी ने कहा कि आप पूरी तरह संतुष्ट होकर जाएंगे। पहले मसाज के रुपए तय कर लीजिए, इसके बाद लड़की के डिमांड के अनुसार जितना चाहें आप दे दें। बल्केश्वर क्षेत्र में एक नामचीन मॉल के अंदर भी तीन स्पा सेंटर चल रहे हैं। स्पाओं में अनैतिक कार्य हो रहे हैं। इनसे पूछा गया कि पुलिस का कोई खतरा तो नहीं हैं, इस पर मसाज कर रही युवती ने बताया कि पुलिस के कई साहब यहां मसाज कराने आते हैं। इसके अलावा चौकी से लेकर एक बड़े साहब तक महीनादारी जाती है। शहर के 90 प्रतिशत थ्री स्टार और फाइव स्टार होटलों में अवैध तरीके से स्पा सेंटर चल रहे हैं।

स्पा लाइसेंस के नियम
अगर आप किसी दूकान या आॅफिस में अपना व्यवसाय शुरू कर रहे हैं, तो उसके लिए शॉप एंड इस्टैब्लिशमेंट लाइसेंस जरूरी है। सभी दूकानों को इस कानून के अंतर्गत पंजीयन करना पड़ता है। इससे आपको व्यवसाय करने की कानूनी इजाजत मिलती है। अगर आप अपने स्पा में से शैम्पू, कंडीशनर, आयल, आदि स्पा प्रोडक्ट्स बेचना चाहते हैं तो वेट /बिक्री कर पंजीयन करवाना बेहद जरूरी हो जाता है। अगर वैसा नहीं है तो उसकी कोई आवश्यकता नहीं है। जीएसटी नंबर लेना भी बेहद जरूरी है।


लाइसेंस दो और स्पा सैकड़ों
स्पा सेंटर के संचालन के लिए आयुर्वेद विभाग से लाइसेंस लिया जाना जरूरी है। यह लाइसेंस आयुर्वेद में डिप्लोमाधारक युवतियों के सर्टिफिकेट के आधार पर मिलता है। पूर्व में रह चुके आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी से इस संबंध में बात हुई। उन्होंने बताया कि ब्यूटी पार्लर ही नहीं आयुर्वेदिक तरीके से थेरेपी देकर लोगों की मसाज करने और हर्बल प्रोडक्ट का उपयोग करने लिए भी लाइसेंस की अनिवार्यता है। लाइसेंस का कोई शुल्क नहीं होता। आयुर्वेद विभाग के मुताबिक, शहर में करीब दो स्पा को लाइसेंस जारी किया गया था।

स्पा का सही अर्थ
स्पा शब्द लैटिन लैंग्वेज से आया है, जिसका मतलब है मिनरल्स से भरपूर पानी में स्नान। स्पा थेरपी यूरोपीय देशों से शुरू हुई और धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैल गई। बॉडी मसाज, बॉडी रैप, सोना बाथ, स्टीम बाथ आदि को मिलाकर स्पा कहते हैं।