वो करना चाहता था अंजलि से शादी, पिता ने नहीं मानी बात तो उठाया ये कदम

आगरा। एक पिता का कसूर इतना ही था की उसने अपनी बेटी की शादी मिथुन से नहीं करवाई थी। इस बात से खफा बेटी के सिरफिरे आशिक ने उस पिता को ही सुला दिया मौत की नींद। पुलिस ने सिरफिरे आशिक और उसके साथी को गिरफ्तार कर इस वारदात का खुलासा कर दिया है। पुलिस की गिरफ्त में आये दोनों शातिरों के नाम तुलसीदास और मिथुन है। आरोपी मिथुन की मृतक धर्मवीर की शादीशुदा बेटी अंजली से दोस्ती थी।  मिथुन ने पुलिस को बताया कि वह अंजली को बहला-फुसलाकर अपने साथ भगा कर ले गया था। वह उससे शादी करना चाहता था पर धर्मवीर ने अंजलि को वापस उसकी ससुराल भिजवा दिया। सुसराल में अंजलि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी।  अंजली की मौत के लिए मिथुन धर्मवीर को जिम्मेदार मानने लगा। आरोपी मिथुन ने बताया कि प्रेमिका अंजली की मौत की खबर सुनने के बाद ही उसने धर्मवीर की हत्या करने का इरादा कर लिया था। अपने मंसूबों को अमलीजामा पहनाने को उसकी मदद उसके मित्र  तुलसीदास ने की ।  धर्मवीर को मिथुन का दोस्त तुलसीदास की मदद से बुलवाया और उसे खूब शराब पिलाई। इसके बाद चाकू से वार कर दोनों ने धर्मवीर की हत्या कर दी और उसके शव को सिकंदरा क्षेत्र स्थित नाले में फेंक दिया। जब धर्मवीर अपने घर नहीं पहुंचा तो मृतक की पत्नी सूरजमुखी ने थाना सिकंदरा में मामले की शिकायत की। इसके बाद 9 फरवरी को थाना क्षेत्र के इंडस्ट्रियल एरिया स्थित नाले से धर्मवीर शव बरामद  हुआ तो पुलिस ने  वारदात का खुलासा कर दिया।  आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयुक्त चाकू बरामद कर लिए गए हैं। वारदात का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को नगद पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।