नहर विभाग की बड़ी लापरवाही, फिर फूटी चंबल नहर

सैकड़ों बीघा गेहूं और आलू की फसल जलमग्न, किसानों में आक्रोश मुआवजे की मांग

आगरा । ब्लॉक पिनाहट क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत रजौरा के उप ग्राम जोर में नहर विभाग कर्मचारियों की लापरवाही के चलते एक बार फिर चंबल नहर फूट गई जिससे एक किसानों की सैकड़ों बीघा फसल जलमग्न हो गई। किसानों ने गेहूं और आलू की फसल की नुकसान की आशंका जताई है।साथ ही ग्रामीणों ने नहर विभाग के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया है। जानकारी के अनुसार पिढौरा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत रजौरा के उपग्राम जोर के पास से चंबल नहर गुजरी है, वही चंबल नहर कर्मचारियों की लापरवाही उजागर हो गई है जहां चंबल नहर एक बार फिर फूटने से किसानों की सैकड़ों बीघा आलू और गेहूं की फसल जलमग्न हो गई है। किसानों ने नहर विभाग कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए बताया कि कई बार शिकायत के बावजूद भी नहर को पूरी तरह ठीक नहीं किया गया जिसके कारण एक बार चंबल नहर फिर फूट गई है, वही कुछ दिनों पूर्व भी इसी जगह चंबल नहर ओवरफ्लो होकर टूट गई थी जिस पर ग्रामीणों ने खुद ही नहर के माइनर को बंद किया था और माइनर के पानी को मिट्टी डालकर रोका था। नहर ठीक कराने के लिए ग्रामीणों ने नहर विभाग के अधिकारियों  और कर्मचारियों को इसकी जानकारी दी मगर कोई मौके पर नहीं पहुंचा। ग्रामीणों द्वारा इसकी शिकायत प्रशासन के उच्चाधिकारियों से की गई उसके बाद नहर विभाग के कुछ कर्मचारी आऐ और मिट्टी की बोरियां रखकर चले गए। नहर विभाग के कर्मचारियों ने उसे बिल्कुल पूरी तरह से ठीक नहीं किया था जिसके परिणाम स्वरूप एक बार फिर चंबल नहर टूट गई। और जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। तीन माह में तीन बार नहर टूटने से किसानों के मुताबिक आलू और गेहूं की सैकड़ों बीघा फसल नहर के पानी से जल मग्न होकर खराब हो गई है। किसानों ने फसल में नुकसान की आशंका जताते मुआवजे की मांग की है। साथ ही सूचना के बावजूद भी नहर विभाग का कोई कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचा जिस पर किसानों ने नहर विभाग की लापरवाही पर रोष व्यक्त किया है।


इनकी फसल हुई बर्बाद
पिनाहट। जोर गांव के पास चंबल नहर टूटने से किसान राम चरण, राम दयाल सिंह, कल्याण सिंह, जगन्नाथ सिंह, शंकरलाल, रामवीर, तीरथ राम, रणवीर सिंह, उमा शंकर, भगवान सिंह, विनोद कुमार, विनोद सिंह, जगदीश सिंह, मौजी राम, रामअवतार आदि किसानों की लगभग 500 बीघा फसल जल मग्न होकर खराब हो गई है।