संजय प्लेस से चला रहा एमसीएक्स सट्टा चर्चित सटोरिये श्याम बोहरा का साथी

-वर्ष 2018 में बोहरा के पूरे नेटवर्क को संभालता था कमला नगर का डी... शेयर
-एक माननीय की शिफारिश पर एक मात्र डी शेयर का ही नाम निकला था लिस्ट से

 


आगरा। पुलिस ने शहर में सटोरियों की कमर बेशक तोड़कर रख दी हो, पर वह उनके नेटवर्क को छू तक नहीं पा रही है। हालांकि ऐसा कोई गलत काम नहीं जिसको पुलिस खतम न कर सके, लेकिन सटोरियों ने कुछेक पुलिसकर्मियों को अपने लालच के जाल में जकड़ लिया है, तो कुछ पुलिसकर्मी आज भी सटोरियों पर शिकंजा कसने में लगे हुए हैं। जो मैनेज हुए उनकी वजह से ही कई बड़े नाम आज शहर में खुलेआम घूम रहे हैं, तो कई नामचीन मामला शांत होने की आस में शहर छोड़कर अज्ञातवास काट रहे हैं। सूत्रों के अनुसार कुछेक सटोरी दिन-रात यही दुआ कर रहे हैं कि किसी तरह आईजी का ट्रांसफर हो जाये, उसके बाद तो सभी को मैनेज कर लेंगे। जो शहर में हैं। वह पूरा नेटवर्क संभाले हुए हैं। उनमें से कमला नगर का एक बुकी संजय प्लेस में बैठकर एमसीएक्स का सट्टा शेयर मार्केट की आड़ में चला रहा है।

कमला नगर निवासी डी... शेयर संजय प्लेस स्थित एक नामचीन जूस वाले के पास मार्केट में शेयर ट्रेडिंग का आॅफिस है। सूत्रों के अनुसार डी... शेयर, शेयर मार्केट की आड़ में एमसीएक्स का धंधा चला रहा है। यह वर्ष 2018 में श्याम बोहरा का पार्टनर रह चुका है। जिस वक्त श्याम बोहरा पकड़ा गया था। उस दौरान बोहरा अपना पेमेंट लेने के लिए पंचवटी से जीवनी मंडी होता हुए कमला नगर डी...शेयर के पास ही जा रहा था। बोहरा के मोबाइल पर कई कॉल मिले थे। पुलिस ने मुकदमें के बाद 67 सटोरियों की जो लिस्ट जारी की थी, उसमें डी शेयर का नाम भी दर्ज था। हालांकि उसने एक माननीय के जरिये अपना नाम लिस्ट से हटवा लिया था। बताया जा रहा है कि वह अकेला सटोरिया था जिसका नाम लिस्ट से निकला गया था। श्याम बोहरा जेल चला गया, कुछ दिनों तक तो काम बंद रहा, लेकिन बोहरा के आगरा छोड़ते ही डी शेयर ने अपना काम अलग कर लिया। हाल में उसने अपने दम पर संजय प्लेस में शानदार आॅफिस खोला है। शेयर की आड़ में एमसीएक्स का सट्टा चलाता है।

करता था दस हजार की नौकरी
डी...शेयर दस साल पहले अपने चाचा की आॅफिस में दस हजार की नौकरी करता था। चाचा के आॅफिस में शेयर बाजार की ट्रेडिंग होती थी। वहीं से उसके नाम के पीछे शेयर लग गया। वह इस लाइन का मास्टर है। इसी दौरान डी शेयर श्याम बोहरा के संपर्क पहुंचा था। बोहरा ने उसे अपना खास पल्टर बना लिया। वहीं से डी शेयर दिन-रात बढ़ता गया। दस साल के कैरियर में डी शेयर ने करीब 100 करोड़ की प्रॉपर्टी बना ली है। दस साल पहले बाइक थी और आज फॉरचूनर और क्रेटा गाड़ी हैं।

सटोरिये की खरीदी थी करोड़ों की संपत्ति
मूलरूप से जगनेर निवासी सुनील झाला सिकंदरा क्षेत्र का प्रमुख सटोरियों में आता है। यह एक हत्याकांड में आरोपी रह चुका है। सुनील झाला भी डी शेयर की बुक पर साढ़े तीन करोड़ रुपये हारा था। रकम न चुकाने पर डी शेयर ने श्याम बोहरा की आड़ में सुनील झाला को दबाव में लेकर कारगिल स्थित उसकी एक बड़ी प्रॉपर्टी को खरीद लिया था। इसके अलावा शेयर पर फतेहाबाद रोड पर भी कई प्लॉट खरीद लिये हैं। नोयडा और दिल्ली में भी कई करोड़ की चल-अचल संपत्ति हैं। डी... शेयर ने आगरा के अतिरिक्त नोयडा, दिल्ली, कलकत्ता और गंगानगर में भी आॅफिस बना रखे हैं। वहां से भी एमसीएक्स का सट्टा और क्रिकेट मैच की बुक चलती हैं।

प्रतिदिन है 25 हजार का खर्चा
डी...शेयर अपने संबंध बनाने के लिए हर दिन हजारों रुपये शराब और खाने-पीने में खर्च करता है। बोदला निवासी सटोरिया नि.. गुप्ता इसकी बुक पर अपने सौदे उतारता है। इसकी एमसीएक्स में रोजाना 25 से 30 लाख रुपये की हार जीत है। शाम आठ बजे के बाद यह पूरी टीम एक संजय प्लेस स्थित आलीशान होटल में बैठे देखे जा सकते हैं। पुलिसकर्मियों पर भी रोजाना खर्च करता है। पुलिस अधिकारियों पर इसकी सूचना जाती भी है, तो यह पुलिसकर्मी मैनेज कर लेते हैं।