ककरैठा के जंगल में महीनों से चल रहा है बंटी का जुआ

जुआ के अड्डे: कप्तान महोदय तो क्या वीडियो मिलेगी तभी कार्रवाई होगी?  
दो दर्जन जुआरी प्रतिदिन दस लाख रुपये के लगाते हैं दाव


अग्र भारत ब्यूरो
आगरा। न्यू आगरा में महीनों से जुआ हो रहा था, क्षेत्रिय लोग शिकायत करके परेशान हो गये। अखबरों में भी जुआ की खबरें सुर्खियां रहीं, लेकिन न्यू आगरा पुलिस या अन्य अधिकारियों के कान पर जूं नहीं रेंगी। मनोहरपुर का वीडियो वायरल हुआ एसएसपी को दिखाया तब आनन-फानन में कार्रवाई के आदेश दिये। यह तो महज एक उदाहरण है, जिले में कुछेक थानों को छोड़ दें तो सभी थाना क्षेत्रों में जुआ, सट्टा, क्रिकैट बुक के अड्डे चल रहे हैं। अधिकारी कार्रवाई के लिए आदेश करते भी हैं तो थानाध्यक्ष और चौकी इंचार्ज झूठी रिपोर्ट भेजकर उन्हे गुमराह कर देते हैं। आज भी आलम यह है कि सिकंदरा और न्यू आगरा के कुछ स्थानों पर सुबह-शाम करके दो शिफ्टों में जुआ हो रहा है।


बोदला का बंटी ककरैठा में करता है जुआ
थाना जगदीशपुरा के बोदला क्षेत्र में रहने वाला बंटी...। पिछले कई साल से थाना सिकंदरा के गांव ककरैठा के जंगल में जुआ कराता है। कुछ माह पहले जेल से छूटकर आया है। जेल में रहने के बाद भी उसके काम को भाई और चेलों से संभाला। ककरैठा गांव से आगे वन विभाग की संपत्ति है। वहां जगल ही जंगल है। यमुना की तलहटी के नजदीक जुआ का फड़ लगता है। बंटी ने जुआरियों के लिए टैंट आदि की व्यवस्था कर रखी है। प्रतिदिन दस लाख रुपये की छूट (जुआ में दाव) पड़ती है। पुलिस के नाम पर दस हजार रुपये रोजाना निकलते हैं। तीन हजार रुपये ककरैठा गांव का एक दंबग लेता है। उसकी जिम्मेदारी है कि वह गांव के लोगों को मैनेज करता है। तीस हजार रुपये पुलिस के पास रुपये थाने में तैनात ड्राईवर के माध्यम से जाते हैं।


25 से 30 जुआरी आते हैं जुआ खेलने
बंटी का ककरैठा में जुआ सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक होता है। जुआ के अड्डे पर यमुनापार स्टेशन रोड का ध्रुव नाम का जुआरी लग्जरी गाड़ी से आता है। गाड़ी को वह गांव में खड़ी कर बाइक से ठिकाने पर पहुंचता है। कुछ दिनों पहले लोहामंडी क्षेत्र का एक जुआरी जुआ के अड्डे पर पांच लाख रुपये हारकर आया है। नगला पदी का टोनी जुआरी भी सुबह घर से ड्यटी पर जाने की कहकर निकलता है और बंटी के जुआ पर पहुंचता है। बंटी यहां से पहले जगदीशपुरा में सेंट्रल जेल के पीछे सुनील नाम के जुआरी के अड्डे पर खेलता था। उसके बाद खुद जुआ कराने लगा।

बाइकें छोड़कर भागे थे जुआरी
ककरैठा जुआ के अड्डे पर चार माह पहले पुलिस ने छापेमारी की थी। पुलिस को मौके से डेड़ दर्जन बाइक मिली थी। उन सभी बाइकों को लावारिश में दाखिल कर दिया। पुलिस चाहती तो गाड़ी नंबरों से ट्रेसकर कार्रवाई कर सकती थी, बाद में वह सभी बाइक कोर्ट से छुड़ाई गईं। उस दौरान भी पुलिस नहीं सक्रिय हुई। अब भला पुलिस क्यों कार्रवाई करे, पुलिस को तो जुआ के ठिकानों से एक मोटी कमाई होती है। शिकायत होती है तो जुआरी के भेजे गुर्गे को जेल भेजकर खानापूर्ति कर दी जाती है।

मुगलरोड पर आज भी होता है जुआ
ककरैठा में शाम चार बजे तक गेम समाप्त हो जाता है और न्यू आगरा के मुगलरोड स्थित बिन्टू...। के यहां जुआ शुरू होता है। जुआ में हारने वाले खिलाड़ी सीधे बिन्टू के पास पहुंच जाते हैं। जुआ के अड्डे पर कमला नगर का एक फाइनेंसर सभी को रुपये ब्याज पर दे देता है। शाम चार बजे से चलने वाला जुआ रात आठ बजे तक चलता है। पुलिस की निगरानी के लिए चप्पे-चप्पे पर गुर्गे लगे होते हैं।


क्राइम ब्रांच ने पकड़ा श्याम बोहरा का गुर्गा
सोमवार की रात साढ़े दस बजे कमला नगर होटल अंजूमन के पास से श्याम बोहरा का एक साथी पुलिस ने उठाया है। सूत्रों का कहना है कि पकड़ा गया व्यक्ति जुआ और बुक का मास्टरमाइंड है। आरोपी का नाम उस लिस्ट में है जिसे एसएसपी और आईजी निकाल चुके हैं। जुआरी उसे डीजल के नाम से पुकारते हैं। कार्रवाई क्राइमब्रांच की बताई जा रही है, इसलिए डीजल को न्यू आगरा थाने की जगह थाना सिकंदरा में रखा गया है। हालांकि सिकंदरा इंस्पेक्टर अरविंद सिंह ने बताया कि कमला नगर से देवेश नाम के व्यक्ति को पूछताछ के लिए पकड़ा था।