हाइवे पर बदमाशों ने कार सवार कारोबारियों पर बरसाईं गोलियां

-मथुरा और आगरा पुलिस सीमा विवाद में उलझी
-बदमाशों ने दिल्ली से आगरा आ रहे कारोबारियों को मारी गोली,
-इलाज के दौरान एक कारोबारी की मौत, -दूसरे कारोबारी की हालत गंभीर,
-गोली लगने के बाद घायल अवस्था में आगरा तक कार चलाकर पहुंचा कारोबारी,
-घायल कारोबारी का प्राइवेट अस्पताल में चल रहा है इलाज

 

मथुरा। दिल्ली के रानी बाग मेन मार्केट निवासी हौजरी कारोबारी रोहित पाहवा की रविवार सुबह मथुरा के चुरमुरा क्षेत्र में गोली मारकर हत्या कर दी गई। वह साथी संदीप कुमार निवासी रानी बाग के साथ आगरा पार्टी को माल देने और तगादा करने आ रहे थे। उधर मृतक कारोबारी के परिजनों का आरोप है कि गोली साथी ने ही मारी है। संदीप पर मृतक के 40 लाख रुपये बकाया थे। 
 यह वारदात रविवार की सुबह मथुरा के फरह टोल प्लाजा के समीप हुई है। दिल्ली निवासी कारोबारी रोहित पहावा और संदीप कार से आगरा आ रहे थे। इनमें रोहित पहावा की गोली मारकर हत्या कर दी गई है, जबकि संदीप के हाथ में गोली लगी है।


संदीप घायल अवस्था में आगरा तक कार चलाकर पहुंचा। संदीप के मुताबिक फरह टोल प्लाजा के पास कुछ बदमाशों ने हमला किया। बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई। कार में बैठे रोहित के सीने गोली लगी। एक गोली रोहित के मोबाइल फोन में भी फंसी है। दोनों कारोबारियों का हौजरी ट्रेडिंग का कारोबार है। शनिवार रात 12रू30 बजे घर से आगरा के लिए चले थे। दोनों गाड़ी से आ रहे थे। मथुरा में एक्सप्रेस वे से उतर गए। इसके बाद रात 4 बजे से सुबह 6 बजे तक रेस्ट किया। आगरा के लिए चल दिए।
संदीप ने पुलिस को बताया कि फरह टोल से निकलते ही टॉयलेट के लिए कार को रोका था। रोहित कार में बैठा हुआ था। तभी चार बदमाश आए और रोहित को गोली मार दी। संदीप को भी गोली मारी, लेकिन वो बच गया है। कार चलाकर वो अस्पताल पहुंच गया। 
पुलिस संदीप से पूछताछ कर रही। उसकी बातों पर संदेह है। उधर, मृतक रोहित परिजनों ने भी मामला संदिग्ध बताया है। परिजनों के मुताबिक संदीप पर 50 लाख रुपये का लेनदेन है। उन्होंने संदीप पर ही गोली मारने का आरोप लगाया है। 

हाॅस्पीटल पहुंचने से पहले ही मर चुका था रोहित
रविवार सुबह 8ः30 बजे संदीप रोहित को लेकर नयति अस्पताल सिकंदरा में आया। डॉक्टरों ने रोहित को मृत घोषित कर दिया। उसके सीने में गोली लगी हुई थी। संदीप भी घायल था। पुलिस और फॉरेंसिक टीम जांच में जुटी है। कार से साक्ष्य लिए गए हैं।