ये रसूखदार दर्ज मुकदमों का शतक लगाने के बाद भी आजाद

-कल्पतरु ग्रुप के खिलाफ चार और मुकदमे दर्ज 
मथुरा। कल्पतरू ग्रुप और ग्रुप के मालिक के खिलाफ अब तक विभिन्न राज्यों में 150 से अधिक मुकदमा दर्ज हो चुके हैं, लेकिन ये रसूखदार अभी भी सलाखों से बाहर हैं। अधिकांश  मुकदमा जालसाजी और धोखाधडी के हैं।  
  कल्पतरु ग्रुप के मालिक जयकृष्ण सिंह राणा जालसाजी में फिर फंस गया है। उस पर करीब 10 लाख रुपये हड़पने का आरोप लगा है। मथुरा के थाना फरह में फ्लैट और प्लाट की एवज में ली गई रकम न देने पर अलग-अलग एक ही दिन में पांच मुकदमे दर्ज कराए गए हैं। थाना फरह के चुरमुरा में फ्लैट और प्लाट की एवज में 500 करोड़ रुपये लेकर फरार कल्पतरु ग्रुप का मालिक जयकृष्ण सिंह राणा और कल्पतरु ग्रुप के एजेंट एसके शर्मा के खिलाफ एक ही दिन में थाना फरह में अलग-अलग चार मुकदमे दर्ज कराए गए हैं। हेमलता पत्नी राजेन्द्र सिंह निवासी आनंद नगर टूडला जिला फिरोजाबाद हाॅल निवासी केयर आफ ठाकुर चंद्रशेकर शिवाम  नगर बल्देव रोड थाने के पीछे टूंडला ने कंपनी मालिक जयकिशन राणा कंपनी ब्रोकर एसके षर्मा निवासी विजय नगर बल्केश्वर आगरा तथा कंपनी के तीन अन्य कर्मचारियों के खिलाफ थाना फरह में रिपोर्ट दर्ज कराई है।
 राजस्थान के जरौली निवासी भइयालाल रावत पुत्र सुखराम सिंह रावत, टूंडला के शिवनगर निवासी हेमलता सिंह पत्नी राजेंद्र सिंह, धौलपुर के शास्त्री नगर निवासी मुन्नी देवी पत्नी सुरेंद्र सिंह, आगरा के फतेहपुर सीकरी निवासी शालिनी वर्मा पत्नी कृष्णचंद रावत ने मुकदमा दर्ज कराया है। 
आरोप है कि चारों ने अपने-अपने फ्लैट बुक कराए थे। इसके लिए करीब 10 लाख रुपये दिए गए थे। आज तक न तो प्लाट मिला और न फ्लैट मिल सका। बता दें कि जालसाज जयकृष्ण सिंह राणा के खिलाफ पचास से ज्यादा मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। 
 प्रभारी निरीक्षक प्रमोद पंवार ने बताया कि कल्पतरु ग्रुप के मालिक जयकृष्ण सिंह राणा और एजेंट एसके शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी होगी।