मथुरा एक बार फिर हुआ बदनाम

शिक्षक भर्तीः.. साल्वर रेकेट का भंडा फूटा  , 
आधुनिक डिवाइस के साथ दो शातिर दबोचे, नकल कराने के लिया था ठेका  
मथुरा। शिक्षक भर्ती को लेकर मथुरा एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार आगामी परीक्षा में सैंधमारी की योजना को अंजाम देने की तैयारी कर चुके दो शातिरो को पुलिस ने दबोचा है।  
 नौहझील पुलिस बडा खुलासा, भर्ती परीक्षाओं मे सेंधमारी करने वाले गैंग के दो अभियुक्त गिरफ्तार   आगामी शिक्षक भर्ती परीक्षा में भी सेंधमारी करने की बना रहे थे योजना-   
एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि सद्दीकपुर लालपुर चैराहा कस्बा बाजना पर पुलिस बैरियर लगाकर संदिग्ध चैकिंग कर रही थी। इसी दौरान पुलिस को सूचना मिली कि एक कार में कुछ लडके आने वाले हैं जो आगामी प्राईमरी अध्यापक की भर्ती की परीक्षा 6 जनवरी को होनी है। परीक्षा में सम्मलित होने वाले अभ्यर्थियों से सम्पर्क कर अवैध रूप से परीक्षा प्रश्न प्रत्र को सोल्वड करके उपलब्ध कराने की बात कहकर धोखाधडी करते हुए अभ्यर्थियों से उनेक पहचान पत्र, अंकतालिका पैन कार्ड आदि एकत्र करते हुए रोल नम्बर की जानकारी कर रूपये ऐंठने की फिराक में गोपनीय तरीके से घूमते हुए सम्पर्क कर रहे हैं । 
 
2.5 लाख में लिया ठेका
पकडे गये युवक मोहित से अंकतालिका, मूल निवास प्रमाण पत्र, पैन कार्ड आदि कागजात बरामद किये गये हैं। मोहित ने बताया कि मेरे साथी विवेक, सौरव पालीवाल, गौरव, ऋषि व अलीगढ निवासी अरविन्द तथा गाडी का ड्राईवर सोनू एक ग्रुप में काम करते है । तथा प्रतियोगिता परीक्षाओं मे सम्मिलित होने वाले अभ्यर्थियो को परीक्षा मे पास कराने हेतु विश्वास में लेकर 250000 (दो लाख पचास हजार) रूपये प्रत्येक अभ्यर्थी से लेते हैं।  
 
ये था गैंग का फुल प्रूफ प्लान
पकडे गये शातिर ने बताया कि परीक्षा में जरूरत के हिसाब से परीक्षा में सोल्वर बिठाते हैं या सोल्व किया हुआ पेपर परीक्षा केन्द्र के बाहर से अभ्यर्थियों को ब्लूटयूथ व अन्य इलैक्ट्रानिक डिवाइस के माध्यम से उपलब्ध कराते हैं । ये सभी इलेक्ट्रानिक डिवाइस की कलर फोटो हम अपने पास रखते हैं तथा इसकी फोटो मेरे मोबाइल में भी है जिन्हें हम अभ्यर्थियों को दिखाकर विश्वास में ले लेते हैं और पैसों की जमानत के रूप में अभ्यर्थियों के शैक्षिक प्रमाण प्रत्र तथा एडमिट कार्ड की छाया प्रति लेते हैं।
 
अलीगढ का अरविंद है सरगना
ग्रुप का अलीगढ निवासी अरविन्द इस बारे में हम सब को निर्देश देता है। दूसरा व्यक्ति चालक नाम सोनू ने बताया कि मैं मोहित उपरोक्त के कहने पर जगह-जगह जाकर लोगों से शैक्षणिक प्रमाण प्रत्र व पैसे इकठ्ठे करते हैं मेरे हिस्से का पैसा मोहित मुझे दे देता है । मोहित से बरामद फोटो का मिलान उसके मोबाईल की गैलरी में उपलब्ध फोटो से किया गया जिसे स्वयं मोहित ने खोलकर दिखाया ।