तीन तलाक वाले धर्म को नकार दें मुस्लिम महिलाएं: साध्वी प्राची

 कोमल सोलंकी
 
 
तीन तलाक वाले धर्म को नकार दें मुस्लिम महिलाएं: साध्वी प्राची
-हिंदू धर्म अपना कर फतवा जारी करने वाले मौलवियों को दें जबाव
मथुरा। भाजपा की फायरब्रांड नेता और अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाली साध्वी प्राची ने महिलाओं के साथ हो रहे भेदभाव पर तीखी प्रतिक्रिया दी है, उन्होंने कहाकि कहीं महिलाओं का मंदिर में नहीं घुसने दिया जाता है तो कहीं तीन तलाक देकर उनकी जिंदगी बर्बाद की जा रही है। मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक और भेदभाव करने वाले धर्म को नकार दें, हिंदू धर्म में उनका स्वागत है। 
 बांकेबिहारी मंदिर के दर्शन करने के बाद पत्रकारों के सवालों के जबाव देते हुए साध्वी प्रचानी ने तीन तलाक पर कहा कि फतवा जारी करने वाले मौलवियों के मुहं पर तमाचा मार कर तीन तलाक की पीड़ित महिलाएं मुस्लिम धर्म को त्याग कर हिंदू धर्म में आ जाएं और हिंदू युवाओं से शादी करें। यहां न तलाक होगा न हलाला होगा मुस्लिम धर्म में रहेंगी तो तलाक होगा और फिर हलाला भी होगा। 
हिंदू महिलाओं को मंदिर में नहीं घुसने देने के सवाल पर उन्होंने कहाकि यह धर्म की बात नहीं पौंगापंथी है। महिलाओं का मंदिर में प्रवेश कहीं भी वर्जित नहीं है। कांग्रेस पर हमला बोलते हुए भाजपा की फायरब्रांड नेता साध्वी प्राची ने कहाकि 2019 नहीं 2024 में भी कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने जा रहा है। उन्होंने राहुल गांधी पर सदन में आंख मारने को लेकर चुटकी ली और कांग्रेसियों को सलाह दे डाली कि कांग्रेस पहले राहुल गांधी की शादी कराये जिससे वह इस तरह की हरकतें नहीं करें। राहुल गांधी ने सदन में क्या किया यह पूरे देश ने देखा।  नाबालिंगों के साथ दुष्कर्म करने वालों के लिए फांसी की सजा होनी चहिए, इसके लिए सदन में सभी सांसदों को एकजुट होकर कानून बनाना होगा। उन्होंने पाकिस्तान के साथ किसी तरह की बातचीत का भी विरोध किया। पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने जैसी घटनाओं पर उन्होंने कहाकि इस तरह की हरकतर करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिए। 
 
फोटो-31यूपीएच मथुरा02
चित्र परिचय-अपने मोबाइल में राहुल गांधी की तस्वीर दिखातीं साध्वी प्राची।