मुडिया मेला में एक सप्ताह में पहुंचेंगे 4-5 करोड़ श्रद्धलु

मुडिया मेला में एक सप्ताह में पहुंचेंगे 4-5 करोड़ श्रद्धलु
-मेला को संपन्न कराने के लिए जिला प्रशासन ने तैयार किया प्लान
-एक सप्ताह में 4-5 करोड़ लोगों के पहुंचने का जिला प्रशासन का अनुमान
-मेला क्षेत्र को 7 सुपर जोन और 21 सैक्टर में बांटा 
मथुरा। उत्तर भारत के भीड़ के हिसाब से सबसे बड़े मेला को सकुशल संपन्न कराने के लिए जिला प्रशासन ने खाका खींचा है। परिक्रमा मार्ग सहित पूरे मेला क्षेत्र को  21 सैक्टर और सात सुपर जोन में बांटा गया है। एक सप्ताह में चार से पांच करोड़ लोगों के मेला में जुटने का जिला प्रशासन ने अनुमान लगाया है।  -अभी से सभी रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड पर हमारी खुफिया एजेंसियां सक्रिय हो गई हैं।  सादावार्दी में पुलिस के जवान तैनात रहेंगे, करीब 150 महिला कांस्टेबिल भी छेड़छाड़ और महिलाओं से होने वाली अभद्रता पर नजर रखेंगी। 6 खोया पाया केंद्र, 45 सीसीटीवी कैमरे भी लगाये जा रहे हैं, घुड़सवार भी मौजूद रहेंगे। पानी वाली जगहों पर गोताखोर भी तैनात किये गये हैं। 
सबसे बड़ी चुनौती मेला में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को जाम से बचाने की होगी इसके लिए  जिला प्रशासन ने इस दौरान मथुरा आने वाले भारी वाहनों के लिए एकल व्यवस्था बनाई है। दिल्ली की ओर से आने वाले वाहनों को बरसाना रोड़ पर परिक्रमा मार्ग से पहले पार्किंग में रोका जाएगा, उन्हें छाता रोड़ से निकाला जाएगा। गोवर्धन चौराह की ओर आने वाले वाहनों को गोवर्धन से पहले रोका जाएगा, इन्हें सौंख रोड मंडी चौराहे की ओर निकाला जाएगा। रोडवेज बसों का संचालन गोवर्धन चौराहे से होगा। 
एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि डग्गेमार वाहन किसी भी कीमत पर नहीं चलने दिये जाएंगे। रोडवेज ने यात्रियों के  लिए 1500 से अधिक रोडवेज बसों का संचालन सुनिश्चत किया है। मेला शुरू होने से पहले ही विभिन्न डिपो की बसों को मथुरा बुला लिया जाएगा। इनके लिए धौलीप्याऊ स्थित रेलवे ग्राउण्ड को चिहिन्त किया गया है। यहां रोडवेज बसों का बेस कैंप होगा। 
यात्रियों के लिए उचित मेडिकल व्यवस्था की गई है। इस टीम में 12 एम्बूलेंस और तीन मोबाइल एम्बूलेंए रखी गई हैं। संक्रमित खाद्य पदार्थों की बिक्री रोकने की जिम्मेदारी खाद्य विभाग को सौंपी गई है। मेला क्षेत्र के अलावा मथुरा, वृंदावन में भी इस दौरान सैंपलिंग की जाएगी। 
 
ये सम्हालेंगे सुरक्षा व्यवस्था
सुरक्षा व्यवस्था को सम्हालने के लिए 6+ एसपी, 20सीओ, 42 इंस्पेक्टर, 200 सब इंस्पेक्टर, 260 हैड कांस्टेबिल और 1000 कांस्टेबिल, दो प्लाटून पीएसी और 500 होमगार्ड लगाये गये हैं। 
 
ये रहेगी व्यवस्था
 यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा मेला है, इस मेले को बिना व्यवधान संपन्पन्न कराने के लिए  24  स्थाई चौकिंया, 42 पार्किंग स्थल, 92 बेरियर, 25 वाच टावर बनाये गये हैं। परिक्रमा मार्ग से सभी स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण हटा दिये गये हैं। 
 
फोटो-18 यूपीएच मथुरा05
चित्र परिचय-गोवर्धन मुड़िया मेला में उमड़ी भीड़, फाइल फोटो।