टोंगा पहुंच और प्रचंड हुआ चक्रवात गीता का कहर

वेलिंगटन... सामोआ में कहर मचाने के एक दिन बाद प्रशांत महासागर द्वीपीय राष्ट्र टोंगा पहुंचे चक्रवात गीता की ‘‘विनाशकारी तेज हवाओं’’ ने वहां जबरदस्त तबाही मचायी।

इसके चलते टोंगा का उष्णकटिबंधीय चक्रवात केंद्र सक्रिय हो गया और राहत सामग्री का समन्वय कर रहे रेड क्रॉस ने द्वीप के लोगों को किसी आशंका से बचने के लिये पहले से ही तैयार रहने की चेतावनी दी है।

टोंगा के फुआमोतू मौसम पूर्वानुमान केंद्र ने एक बुलेटिन में 80 नॉट (148 किलोमीटर प्रति घंटा) की रफ्तार से तेज हवाएं चलने एवं इसके साथ भारी बारिश एवं गरज के साथ छींटे पड़ने का पूर्वानुमान जताया है। इसके अनुसार, ‘‘सोमवार सुबह से बेहद विनाशकारी प्रचंड चक्रवातीय हवाएं चलने का अनुमान है।’’ 

टोंगा रेड क्रॉस के महासचिव सिओन तौमोएफोलाउ ने बताया कि विशेषकर बाहरी द्वीपों के लिये चिंता का विषय है जहां हवा के प्रचंड झोंकों में घर टिक पाने में सक्षम नहीं हैं।

सामोआ के प्रधानमंत्री तुईलाईपा सैलेले मालिएलेगाओई ने कहा कि चक्रवात गीता के कारण करीब 200 लोगों को वहां से जाना पड़ा और शुक्रवार रात द्वीप में प्रवेश करते ही इसके चलते क्षेत्र में भयंकर बाढ़ आ गयी।